चेहरे पर दाग-धब्बों से परेशान हैं तो आजमाएं ये उपाय

Share with your friends

कील-मुंहासों की समस्या भले ही आम हो, पर जाते-जाते जो निशान ये चेहरे पर छोड़ जाते हैं, उनका निदान जरूरी है।त्वचा की बेदाग खूबसूरती के लिए लोग क्या-क्या जतन नहीं करते हैं। तमाम कोशिशों के बावजूद कई बार चेहरे पर पिंपल्स यानी मुंहासे हो जाते हैं। खासकर टीनएज में यह समस्या ज्यादा होती है।

ये मुंहासे भले ही चेहरे पर एक सप्ताह से ज्यादा न रहते हों, पर जाते-जाते चेहरे पर कुछ गहरे निशान छोड़ जाते हैं, जो देखने में काफी खराब भी लगते हैं। कई किस्म की क्रीम और लोशन के इस्तेमाल के बाद भी ये निशान जैसे के तैसे बने रहते हैं। हालांकि इससे हमारी सेहत को कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन उनके कभी न जाने वाले दाग परेशानी का सबब बन जाते हैं।

चेहरे पर पिंपल्स क्यों?

टीनएज में हारमोंस में लगातार बदलाव आते रहते हैं। इस वजह से चेहरे पर मुंहासे और एक्ने की समस्या होने लगती हैं। वैसे मुंहासों की मुख्य वजह सिर की सतह पर मौजूद तैलीय परत को भी माना जाता है। यह परेशानी उस समय ज्यादा उभरती है, जब तैलीय परत तेजी से सक्रिय होने लगती है।

हमारी त्वचा में मौजूद रोमछिद्र त्वचा के अंदर मौजूद ऑयल ग्लैंड्स से जुड़े होते हैं। ये ग्लैंड्स सेबम नाम का ऑयली लिक्विड उत्पन्न करते हैं, जिनसे डेड स्किन सेल्स को त्वचा की ऊपरी परत तक लाने में मदद मिलती है। डेड स्किन सेल्स के बाहर आने की यह प्रक्रिया रुक जाने पर पिंपल होने की आशंका बढ़ जाती है।

साफ-सफाई का रखें ध्यान

अपने चेहरे को साफ रखें। लेकिन धोते समय चेहरे को रगड़ें नहीं, बल्कि हल्के हाथों से चेहरे को साफ करें। आपके बाल ऑयली हैं, तो इन्हें चेहरे से दूर रखें। बाल चेहरे के संपर्क में न आएं, इसके लिए रबर बैंड से बालों को बांध कर रखें।

चेहरे पर बार-बार हाथ न लगाएं। इससे हाथों के बैक्टीरिया चेहरे के संपर्क में आते हैं और चेहरे को नुकसान पहुंचाते हैं।

तौलिया या रूमाल को बिना धोए बार-बार इस्तेमाल न करें। तौलिए की गंदगी मुंहासों को बढ़ा सकती है। हमेशा वाटर बेस्ड नॉन-कमेडोजेनिक स्किन केयर प्रोडक्ट ही इस्तेमाल करें।

Share with your friends